वक़्त की आँख से देखो तो यह बात पुरानी लगती है
तेरे मेरे प्यार की बातें अब एक कहानी लगती है

मेरे दिल की रग़ रग़ में वो लहू बन के बहती है
लढ़की जो नादान कभी और कभी सियानी लगती है

अहद-ए- वफ़ा पर में ने गुज़ारा जीवन अपना तन्हा तमाम
हैरान दिलों को शायद यह सोअच दीवानी लगती है

कहने को ग़र कुछ न पाओ डाल दो बात में पेच-ओ- ख़म
जो बात यहाँ समझ न आए वो सब को रूहानी लगती है

उस से बढ़ कर होंगे बेशक दुनिया में हसीं हज़ार
*सागर * लेकिन अच्छी मुझ को वोह मरजानी लगती है


---------------------------------------
Waqt Ki aankh se deykho tu yeh baat Puraani lagti hai
Teray meray Piyar ki baatein ab aik kahani lagti hai

Meray Dil ki ragh ragh mein wo lahoo ban k behti hai
Larki Jo Nadaan kabhi aur kabhi Siyaani lagti hai

Ahad-e wafa per mein nay guzara jeewan apna tanha tamaam
Hairan Diloun ko shayd yeh soach deewanai lagti hai

kehnay Ko gar kuch na paaO daal do baat mein paich O Kham
jo baat yAAN samjh na aa-ay wo sab ko Rohaani lagti hai

Uss se bhar kar houn gay bey shak Duniya mein haseen hazar
*Sagar* laikin achhi mujh ko woh marjaani lagti hai